Hare Rang ka Horse : हरे रंग का घोड़ा बीरबल की मजेदार कहानी

Hare Rang ka Horse : हरे रंग का घोड़ा बीरबल की मजेदार कहानी

Hare Rang ka Horse : हरे रंग का घोड़ा बीरबल की मजेदार कहानी

एक बार बादशाह अकबर अपने सैनिकों के साथ घोड़े पर बैठकर शाही बाग की हसीं वादियों की सैर करने के लिये निकले | हर बार की तरह बीरबल भी बादशाह के साथ ही थे |

शाही बाग मे हरे-भरे पेड़ थे और जमीन पर हरी-हरी घास की चादर बिछी हुई थी | अपने आस-पास इतनी हरियाली देखकर बादशाह को बहुत ख़ुशी हो रही थी |

Hare Rang ka Horse : हरे रंग का घोड़ा बीरबल की मजेदार कहानी

तभी उनके दिमाग में एक ख्याल आया कि ऐसी हरी-भरी जगह पर घूमने के लिये अगर मेरे पास एक हरे रंग का घोड़ा होता तो कितना अच्छा होता |

फिर उन्होंने बीरबल की तरफ़ देखकर कहा – बीरबल ! आप कही से भी मेरे लिये एक हरे रंग के घोडा ढूंढकर लाओ | मैं तुम्हे एक हफ्ते का समय देता हूँ | 

और हाँ, यदि तुम ऐसा ना कर पाओ तो मझे कभी अपनी शक्ल मत दिखाना |

बादशाह अकबर और बीरबल दोनों यह अच्छी तरह से जानते थे कि हरे रंग का घोड़ा होता ही नही है तो मिलेगा कहाँ से |

बादशाह अकबर तो बीरबल की परीक्षा लेना चाहते थे इसलिये उन्होंने बीरबल को फ़साने के लिये ऐसा कहा | 

बीरबल भी बादशाह की आज्ञा लेकर घोड़ा ढूँढने निकाल दिए | पूरे हफ्ते बीरबल शहर में इधर-उधर ऐसी मुद्रा बनाये भटकते रहे मानो वो सच मे घोड़ा ढूँढ रहे हों |

एक हफ्ता गुजर जाने के बाद बीरबल बादशह अकबर के दरबार मे पहुँचे और बोले – महाराज ! आखिर मैंने आपके लिये हरे रंग का घोड़ा ढूँढ ही लिया |

बीरबल की बात सुनकर अकबर चौक गए | उन्होंने सोचा- जो सम्भव ही नही हो सकत वो बीरबल ने कैसे कर दिखाया |

बादशाह ने कहा – कहाँ है घोड़ा ? मैं उसे अभी देखना चाहता हूँ |

बीरबल ने जवाब दिया – महाराज ! दिखाना ज़रा सा मुश्किल है | क्योंकि घोड़ा बहुत अनोखा है और जो इस हरे रंग के घोड़े का मालिक है उसकी दो शर्तें है |

बादशाह ने कहा – जल्दी बताओ उसकी शर्त क्या है ? हमें उस घोड़े को अभी देखना है |

बीरबल ने कहा – महाराज ! पहली शर्त यह है कि बादशाह सलामत को घोड़ा लेने के लिये वहाँ खुद ही जाना पड़ेगा |

अकबर ने कहा – ठीक है, हमें मंजूर है | अब दूसरी शर्त बताओ |

Hare Rang ka Horse : हरे रंग का घोड़ा बीरबल की मजेदार कहानी

बीरबल बोले – महारज ! घोड़ा खास रंग का है, तो उसको लाने का दिन भी खास होना चाहिए |

घोड़े के मालिक की दूसरी शर्त यह है कि सप्ताह के सात दिनों के आलावा किसी भी दिन आकर घोड़ा वहा से लेकर जा सकते है | 

दूसरी शर्त को सुनकर बादशाह अकबर बीरबल का शक्ल देखते रह गए |

तभी बीरबल बोले – महाराज ! अगर हरे रंग का घोड़ा चाहिए तो उसकी शर्तें तो माननी पड़ेंगी |

बादशाह अकबर जोर हे हँस पड़े, वह समझ गए थे कि बीरबल ने अपनी चालाकी से फिर उनको मात दे दी |

बीरबल को मूर्ख बनाना इतना सरल नही है | 

 


टॉप आर्टिकल :

1. Lunch Box under 500 Best Stainless steel Lunch Box For Kids, Boy, Girl
2. School Bag Under 1000, Buy School Bags for Kids, Girls, Boys |megiccry
3. 6 साल की लड़की का लिए जन्मदिन का उपहार और सबसे अच्छे खिलोने
4. Kids Toys For Girls : Buy Best Kids Toys for Girls Online from amazon
5. लेटेस्ट मनी बैंक/पिग्गी बैंक : छोटे बच्चे का लिये टॉप 5 मनी/पिग्गी बैंक ऑनलाइन

 

Leave a Reply