Akbar-Birbal ke Kisse : जूता कितने का पड़ा

Akbar Birbal ki kahani संसार की सबसे बड़ी चीज़, Moral Story

Akbar Birbal ki kahani संसार की सबसे बड़ी चीज़, Moral Story

एक दिन दरबार में बीरबल उपस्थित नहीं थे |

ऐसे में बीरबल से जलने वाले सभी मंत्रिगढ़ बीरबल के खिलाफ बादशाह अकबर के कान भरने लगे |

ऐसा आक्सर होता था, जब भी बीरबल दरबार मे नही होते थे तभी सारे सभासद मिलकर बादशाह अकबर से बीरबल की चुगली करने लगते थे |

अकबर बादशाह के साले मुल्ला दो प्याजा की शह पाकर कुछ मंत्रियों ने कहा – महाराज ! आप वास्तव मे बीरबल को आवश्यकता से अधिक मान देते है |

आप उनकी हर बात पर आँख बंद करके विश्वाश कर लेते है |

उनमे से एक मंत्री ने कहा – महाराज ! बीरबल जो काम करते हैं ,

वो हम भी कर सकते है मगर आप हमें मौका ही नही देते है |

बादशाह को बीरबल की  बुराई अच्छी नही लगती थी |

कुछ देर सोचकर बादशाह ने कहा – में आप लोगो को अपनी श्रेष्ठता सिद्ध करने का एक अवसर देता हूँ |

बादशाह बोले – में आपसे एक सवाल करूँगा ! उन्होंने कहा – बताओ संसार की सबसे बड़ी चीज क्या है ?

अपना सवाल पूंछने के बाद बादशाह ने कहा – देखो, आज बीरबल दरबार में उपस्थित नही है और मुझे अपने सवाल का जवाब चाहिए |

अटपटे जवाब बिलकुल नही चलेंगे, जवाब बिलकुल सही हो और उसका अर्थ भी निकलना चाहिये |

लेकिन अगर आप लोगों ने सवाल का सही-सही जवाब नही दिया तो में तुम सभी को फांसी पर चढ़वा दूंगा |

बादशाह की बात सुनकर सारे मंत्री घबरा गए |

उनमे से एक ने कहा – बादशाह सलामत हमें कुछ दिनों का समय दिया जाये |

अकबर ने कहा – ठीक है ! हम आप लोगो को जवाब देने के लिये हम छः दिन का समय देते है |

सभी मंत्री दरबार से बहार आकर सोचने लगे कि आखिर सबसे बड़ी चीज क्या हो सकती है ?

एक ने कहा – मेरे ख्याल से तो अल्लाह सबसे बड़ा है |

दुसरे ने कहा – अल्लाह कोई चीज नही है, कोई दूसरा जवाब सोचो |

फिर एक और मंत्री बोले – सबसे बड़ी चीज भूख है, जो कि किसी से कुछ भी करवा सकती है |

तभी तीसरा बोला – नही – नही ! भूख बर्दास्त भी की जा सकती है |

सभी सोचने लगे – फिर क्या है सभी बड़ी चीज ?

धीरे – धीरे करके छः दिन बीत गए, लेकिन किसी को अभी तक बादशाह के सवाल का जवाब नही मिला |

सभी यह सोचकर बहुत परेशान थे कि अगर समय से महाराज के सवाल का जवाब नही दिया तो वो हम सभी को फांसी पर चढ़ा देंगे |

अंत मे हार कर वे सभी बीरबल के पास पहुँचे और उन्हें सारी बात विस्तार से बताई.

फिर सभी ने हाथ जोड़कर बीरबल से विनती की वह इस प्रश्न का उत्तर बता दें |

बीरबल ने मुस्कुराकर कहा – में तुम्हे इस प्रश्न का उत्तर तो बता दूंगा,

लेकिन मेरी एक शर्त है ?

सभी ने मिलकर कहा – हमे आपकी सभी शर्तें मंजूर है,

बस आप हमें इस प्रश्न का उत्तर बताकर हमारी जान बचा लो |

फिर बोले – बताइए आपकी शर्त क्या है ?

बीरबल बोले – आप मे से चार लोग मुझे पालकी में बिठाकर दरबार तक ले चलो |

एक मेरा हुक्का पकड़ेगा, दूसरा मेरा जूता लेकर चलेगा |

बीरबल ने अपनी शर्त बताते हुए कहा |

यह सुनकर सभी को मन ही मन बहुत गुस्सा आ गया |

मगर वे कुछ नही बोले |

अगर इस समय उन्हें मौत की सजा का डर नही होता तो सभी मिलकर बीरबल को बहुत मारते |

मगर वे मजबूर थे अतः उन्होंने तुरंत बीरबल की शर्त मान ली |

चार लोगों ने बीरबल को पालकी में बिठाकर पालकी कंधे पर उठा ली |

एक ने बीरबल का हुक्का पकड़ा और दूसरा बीरबल के जूते हाथ मे लेकर चल दिया |

रस्ते मे लोग आश्चर्य से उन्हें देख रहे थे |

दरबार मे बादशाह ने भी यह मंजर देखा और वहां मौजूद दरबारियों ने भी | किसी को कुछ समझ मे नही आया |

तभी बीरबल ने महाराज के प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा – माहराज ! सबसे बड़ी चीज है गरज |

अगर आज इन लोगो की गरज नही होती- तो ये मुझे पालकी मे बिठाकर दरबार तक न लेकर आते |

बादशाह यह सुनकर हँसने लगे | फिर उन्होंने कहा – इसीलिए में बीरबल पर इतना भरोसा करता हूँ |


ये भी पढ़े :

1 चिंटू की शरारत : Hindi Moral Stories for Kids
2 प्यासी मैना : छोटे बच्चो की मनोरंजक कहानियां 2021
3 पेड़ की गवाही : बच्चों की मजेदार कहानी
4 बच्चों की कहानीयां , Kids Story, सुनहरी चिड़िया का जन्मदिन

Akbar Birbal ki kahani संसार की सबसे बड़ी चीज़, Moral Story


उम्मीद करता हूँ कि आपको मेरी अकबर और बीरबल की कहानिया पसंद आ रही होगी | अगर आपको इसी तरह की मोटिवेशनल कहानियां पसंद है तो मेरे आर्टिकल को लाइक करे और सब्सक्राइब जरूर करे जिससे आपको मेरे हर नए आर्टिकल की नोटिफिकेशन मिल सके |

धन्यवाद | 

One thought on “Akbar Birbal ki kahani संसार की सबसे बड़ी चीज़, Moral Story”

Leave a Reply