शरारती बंदर | छोटे बच्चो की मजेदार कहानी इन हिंदी 2021

शरारती बंदर | छोटे बच्चो की मजेदार कहानी इन हिंदी 2021

 

“शरारती बंदर”

एक बंदर था उसका नाम चीकू था | चीकू बहुत ही चंचल और शरारती था | वह दिनभर एक पेड़ से दूसरे पेड़ पर छलांगे लगाता रहता था |

उसे भागने और उछल कूद करने मे बड़ा ही मजा आता है | कभी किसी पेड़ की टहनी को पकड़कर झूला झूलने लगता और कभी बहुत सारे करतब दिखाता रहता |

यह सब देखकर सभी जानवर बहुत हँसते | चीकू को अगर कोई प्यार से समझाता कि – इस तरह दिनभर उछल कूद और मस्ती करने से गिरने और चोट लगने का डर रहता है |

अगर तुम्हारे कोई चोट लग गयी तो जंगल मे तुम्हारा इलाज कैसे होगा ?

यह सुनकर चीकू खी – खी करके हसने लगता और फिर उसी तरह मस्ती से उछल – कूद करने लगता |

पेड़ो पर बार – बार उछलने -कूदने से उन पर रहने वाले पक्षियों के घोंसले भी हिलने लगते | जिससे कभी – कभी किसी पक्षी क अंडा जमीन पर गिरकर टूट जाता या फिर कभी किसी चिड़िया का बच्चा गिर जाता और उसे चोट लग जाती |

चीकू की उछल कूद से सभी जानवरों को बहुत परेशानी होने लगी थे | जानवर चीकू को समझाते कि भाई तुम ऐसी शैतानी न किया करो जिससे दूसरो को परेशानी हो |

लेकिन चीकू एक कान से सुनता और दूसरे कान से  बाहर निकाल देता | ऐसे करते करते – करते कई दिन बीत गए |

धीरे – धीरे मौसम बदलने लगा और बारिश का मौसम आ गया लेकिन शरारती चीकू की आदतों मे कोई भी फर्क नही पड़ा | वह और भी जादा बढ़ – चढ़ कर शैतानियाँ करने लगा |

यह सब देखकर चिडियों को डर लगने लगा कि कही चीकू अपनी शैतानियों से उनके घोंसलों को ना गिरा दे |

शरारती बंदर | छोटे बच्चो की मजेदार कहानी इन हिंदी 2021

फिर एक दिन असमान मे काले – काले बादल आ गए और देखते ही देखते तेज बारिश भी शुरू हो गयी |

सब जगह पानी भरने लगा, तेज ठंडी -ठंडी हवाए भी चलने लगी | तेज ठंडी हवाओ से चीकू को ठंड लगने लगी और वह किसी तरह अपना सर छिपाने की जगह तलाश करने लगा |

लेकिन चीकू ने अपने लिये तो कोई घर बनाया ही नही था क्युकी उसे अपनी शरारतो से फुरशत ही कहा थी | चीकू बारिश मे बहुत बुरी तरह से भीग गया था |

तभी उसे बहुत घने पत्तो वाला एक पेड़ दिखाई दिया और वह उसी मे छिपने की कोशिश करने लगा | बारिश मे भीगने की वजह से उसे बहुत  ठंड लग रही थी  और वो थर थर कांप रहा था |

उसी पेड़ पर बाया ने अपने लिये एक सुन्दर घोंसला बनाया था. जिसमे बाया और उसके बच्चे साथ मे रहते थे | बाया ने बारिश के दिनों मे अपने बच्चो के लिये अन्न के दाने भी इकट्ठे कर लिये थे |

बाया और उसका पूरा परिवार अपने घोंसले मे छिपकर बारिश का पूरा आनंद ले रहे थे | तभी बाया कि नजर बारिश मे भीग रहे चीकू पर पड़ी |

चीकू बारिश की वजह से थर थर कांप रहा था | बाया को चीकू की यह हालत देखकर बड़ा तरस आ रहा था | बाया ने कहा – देखो चीकू भाई बुरा ना मानना !

मैंने आपसे कितनी बार कहा था कि अपना सारा समय शरारतो मे मत बर्बाद करो | कुछ आगे के लिये सोचो, तुम भी अपने लिये घर बना लो और कुछ खाने के लये इकठ्ठा कर लो |

अगर तुमने अपने लिये कोई घर बना लिये होता और बरसात के दिनों के लिये पहले से खाने का इंतजाम कर लिया होता, तो आज तुम्हारी यह हालत नही होती |

बाया की बात सुनकर चीकू को गुस्सा आ गया और गुस्से से बाया की तरफ देखने लगा | बया ने फिर से कहा – भाई जो हुआ सो हुआ | मगर आगे के लिये मेरी बात का धयान रखना |

बया ने कहा – मेरे पास कुछ खाना रखा है अगर भूख लगी हो तो तुम्हारे लिये कुछ खाना ले आऊँ | यह सुनकर चीकू का गुस्सा और भड़क गया |

गुस्से से लाल पीला होकर चीकू ने जोर से छलांग मारी और बाया के घर को बुरी तरह से झंकझोड़  दिया | चीकू फिर बोला – लो अब मजा चखो !

बया का टूटा हुआ गोंसला अब जमीन पर पड़ा था  और उसे बच्चो को भी चोट  लग गयी थी | बया जोर जोर से रोने लगी | उसे दुःख हुआ कि उसने ऐसे शरारती बंदर को सीख देने की कोशिश क्यों की !

धीरे धीरे पेड़ पर बैठी सभी चिडियों को पता चल गया | सबने एक दूसरे से कहा – आगे से हम कभी इस शरारती चीकू से बात नही करेंगे और ना ही कभी इसकी कोई भी मदद करेंगे |

इस तरह से सभी जानवरों और पक्षियों ने मिलकर चीकू की मदद ना करने का प्रण लिया |

शरारती बंदर कहानी से सीख : हमें शरारती बच्चो से हमेशा दूर रहना चाहिए |

 

बच्चो से सम्बंधित टॉप आर्टिकल:

1. नन्हे बच्चो को चलना सिखाने के लिये सबसे अच्छे वॉकर
2. बच्चों का मानसिक विकास के लिये 5 बेस्ट एक्टिविटी बुक्स
3. न्यूबोर्न बेबी के लिए 5 बेस्ट दूध पिलाने की बोतल

शरारती बंदर | छोटे बच्चो की मजेदार कहानी इन हिंदी 2021

मोर की शिकायत

एक बहुत सुन्दर मोर था, उसके पंख बहुत खूबसूरत थे। एक बार रिमझिम – रिमझम बारिश हो रही थी और मोर उस बारिश मे नाचने लगा।

नाचते हुए वह अपनी खूबसूरती को निहार रहा था, तभी अचानक उसका ध्यान उसकी आवाज पर गया, जो कि बेहद बेसुरी और कठोर था। मोर को अपनी आवाज पसंद नही आ रही थी |

इस बात का एहसास होते ही वह बेहद दुखी हो गया और उसके आंखों में आंसू आ गएं। तभी अचानक, उसे एक कोयल गाती हुए सुनाई दी।
कोयल की मधुर आवाज को सुनकर, मोर को उसकी कमी एक बार फिर एहसास हुआ। वह सोचने लगा कि भगवान ने उसे सुंदरता तो दी पर मधुर आवाज क्यों नही दी।

तभी एक देवी प्रकट हुई और उन्होंने मोर से पूछा “मोर, तुम क्यों उदास हो?”

मोर ने देवी से अपनी कठोर आवाज के बारे में शिकायत की और उनसे पूछा, “कोयल की आवाज इतनी मीठी है पर मेरी क्यों नहीं? मैं इसलिए दुखी हूँ।

अब मोर की बात सुनकर, देवी ने समझाया, “भगवान ने सभी का अलग – अलग हिस्सा निर्धारित किया है, हर जीव अपने तरीके से खास होता है।

भगवान ने उन्हें अलग–अलग बनाया है और वे एक निश्चित काम के लिए हैं। उन्होंने मोर को सुंदरता दी, शेर को ताकत दी कोयल को मीठी आवाज दी और हाथी को बलवान शरीर दिया |

हमें भगवान के दिए इन उपहारों का सम्मान करना चाहिए और जितना है उतने में ही खुश रहना चाहिए।

देवी माँ की बातो को सुनकर मोर को एहसास हुआ कि हमें कभी किसी से अपनी तुलना नही करनी चाहिए, बल्कि भगवान ने हमें जितना भी दिया है उसमे खुश रहना चहिये, अपने हुनर को और निखारना चाहिए |

मोर उस दिन समझा कि हर व्यक्ति और जीव मे किसी न किसी तरह से यूनिक हुनर होता है।

कहानी से सीख : खुद को स्वीकार करना ही खुशी का पहला कदम है। जो कुछ भी आपके पास नहीं है, उसके लिए दुखी होने के बजाय, आपके पास जो है, उसे स्वीकार करें।

2 thoughts on “शरारती बंदर | छोटे बच्चो की मजेदार कहानी इन हिंदी 2021”
  1. GODD Story , bachcho ke liye yah story prerna dayak hai . bachche inhe padhkar bhut kuch siikhenge

Leave a Reply