प्यासी मैना : छोटे बच्चो की मनोरंजक कहानियां 2021 | megiccry

प्यासी मैना : छोटे बच्चो की मनोरंजक कहानियां 2021

 

प्यासी मैना

प्यासी मैना : छोटे बच्चो की मनोरंजक कहानियां 2021

एक मैना थी | वह नीम के पेड़ के एक खोखल मे रहती थी | नीम का पेड़ बगीचे मे था | उसी बगीचे मे एक नल भी लगा था | 

मैना रोज बगीचे मे कीड़े मकोड़े खाती और नल से पानी पीती | एक दिन बहुत गर्मी पड़ रही थी | मैना को गर्मी के मरे जोर से प्यास लग रही थी |

मैना उड़ कर नल पर जा पहुंची और पानी पीने के लिये अपनी चोंच आगे बढ़ाई | लिकिन नल मे तो पानी ही नही आ रहा था, वह तो सूख पड़ा था |

निराश होकर मैना वहां से उडी और आम के पेड़ पर जा बैठी | थोड़ी देर मे उड़े उड़ते वहा एक तोता आया | मैना ने कहा – “तोते भाई” ! मुझे बहुत जोर से प्यास लगी है |

पानी कहाँ मिलेगा ? तोता बोला – पास ही जामुन का पेड़ है और उसके नीचे घड़ा रखा है |

उस घड़े से लोग पानी पीते है | उसमे से कुछ पानी गिरकर पास ही के एक गड्ढे मे इकट्ठा हो जाता है | चलो, वही चलकर पानी पी आते है |

प्यासी मैना : छोटे बच्चो की मनोरंजक कहानियां 2021 | megiccry

मैना और तोता उड़कर जामुन के पेड़ पर पहुँचे | और देखा कि पेड़ के नीचे घड़ा तो रखा है यकीन वहां कोई भी आदमी नही था |

गड्ढा भी सूख गया था | मैना और तोते ने जामुन के पेड़ पर एक कबूतर बैठा देखा |

मैना ने कबूतर से पूछा – कबूतर भाई ! हमें बड़ी प्यास लगी है |पीने के लिये पानी कहाँ मिलेगा ?

कबूतर ने कहा – वहा लाल ईटों वाला माकन है न उसके आँगन मे रोज एक औरत कपडे धोती है फर्श ई दरारों मे पानी जमा हो जाता है |

चलो, वही चलकर पानी पीते है | अब मैना , तोता  और कबूतर तीनो साथ – साथ उड़ते हे लाल ईटों वाले मकान मे जा पहुँचे लेकिन कपडे धोने वाली महिला जा चुकी थी |

प्यासी मैना : छोटे बच्चो की मनोरंजक कहानियां 2021 | megiccry

फर्श कि दरारो मे जमा पानी भी सूख चुका था | तोता और मैना को बहुत जोर से प्यास लग रही थी | तोता परेशानी से बोला – भाई ! अब क्या करे ?

मुझे तो बहुत जोर से प्यास लग रही है | मैना ने कहा – मुझे भी ! कबूतर बोला चलो इधर उधर पानी ढूंढे | मैना ,तोता और कबूतर तीनो साथ-साथ उड़ चले |

कुछ देर बाद वे एक पीपल के पेड़ पर उतरे | उन्होंने देखा वहा बहुत सारी चिडिया बैठी थी | वे सब खूब मजे से चहचहा रही थी |

कबूतर चिदियोके पास जाकर बोला – अरे चिडियों ! तुम सब इतनी खुश कैसे हो ? मैना मे अचरज से कहा – नहाकर ! लिकिन तुम्हे नहाने ए लिये पानी कहा से मिला ?

चिड़िया ने कहा – वह देखो वहां ! आओ मेरे साथ ! चिड़िया,  मैना और उसके दोसतो को अपने साथ एक बगीचे मे ले गयी |

बगीचे मे बहुत सरे सुन्दर फूलो के गमले थे और आस – पास बहुत सारी झाडिया भी उगी हुई थी |

प्यासी मैना : छोटे बच्चो की मनोरंजक कहानियां 2021 | megiccry

झाड़ियो की छाया मे एक बड़ा सा मिटटी कुंड रखा था और उसमे ठंडा – ठंडा पानी भरा हुआ था | तोता जोश मे बोला – देखो देखो कुंड मे से गिलहरी पानी पी रही है | 

मैना ने चिड़िया से पूंछा, यह कुंड यहापर किसने रखा है ? चिड़िया ने बताया – एक्चोते लड़के ने रखा है | वाही रोज इसे पानी से बहर देता है |

मैना, तोता  और कबूतर तीनो उड़कर कुंड के किनारे जा बैठे | उन्होंने ख़ुशी – ख़ुशी ठंडा पानी पिया और जी भरकर नहाये भी |

कहानी से सीख : गर्मियो मे सभी को प्यास लगती है फिर चाहे वह जानवर हो या इन्सान | हमें पशु पक्षियों का  भी गर्मियो मे ध्यान रखना चाहिए |


ये भी पढ़े : 

1.

पेड़ की गवाही : बच्चों की मजेदार कहानी |

2.

शरारती बंदर | छोटे बच्चो की मजेदार कहानी 

3.

बच्चों की मजेदार कहानी |

4 thoughts on “प्यासी मैना : छोटे बच्चो की मनोरंजक कहानियां 2021”

Leave a Reply